सीसीआई ने कोविशील्ड टेक्नोलॉजीस के बायोकॉन बायोलॉजिक्स में विलय को मंजूरी दी

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने बायोकॉन बायोलॉजीस की लगभग 15 प्रतिशत शेयरधारिता इक्वीटी के सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ लाइफ साइंस द्वारा अधिग्रहण के संदर्भ में कोविशील्ड टेक्नोलॉजीस के बायोकॉन बायोलॉजिक्स में विलय को मंजूरी दे दी है।
कोविशील्ड टेक्नोलॉजीस प्रा. लि. (सीटीपीएल) के विलय का प्रस्ताव है। यह कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ लाइफ साइंस के स्वामित्व की सहायक कंपनी है। इसका विलय बायोकॉन बायोलॉजीस लि. (लक्ष्य) में होगा। इसके संदर्भ में विलय योजना के तहत अधिग्रहणकर्ता लक्ष्य कंपनी में लगभग 15 प्रतिशत इक्विटी शेयरधारिता प्राप्त करेगा।
अधिग्रहणकर्ता, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया प्रा. लि. की सहायक कंपनी है और उसे कोविड-19 की वैक्सीन और उपचार के लिये विकिसत किया गया था। कंपनी की योजना है कि अन्य संक्रामक रोगों की भी वैक्सीनें विकसित की जायें। इस समय, अधिग्रहणकर्ता अपनी निर्माण इकाई लगाने की प्रक्रिया में है।
सीटीपीएल, अधिग्रहणकर्ता कंपनी के स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है, जिसका विलय लक्ष्य कंपनी में होगा, जो प्रस्तावित लेन-देन पर आधारित है। उसे विपरण, वैक्सीनों दवाओं और अन्य फार्मा उत्पादों की बिक्री और वितरण के लिये निगमित किया गया था।
लक्ष्य कंपनी, बायोकॉन लि. की सहायक कंपनी है और मधुमेह, कैंसर उपचार, गुर्दा रोग उपचार तथा अन्य गंभीर रोगों के उपचार से सम्बंधित है। लक्ष्य कंपनी के बेंगलुरु और चेन्नई में अनुसंधान एवं विकास केंद्र भी हैं। वह बेंगलुरु और मलेशिया में मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज, रीकॉम्बेंटेंट प्रोटीन और इनसुलिन का निर्माण करती है।